Connect with us

Hi, what are you looking for?

Adiwasi.com

National

उदयपुर में प्रस्तावित बांधों के निर्माण से 35,000 आदिवासी परिवार होंगे प्रभावित

उदयपुर जिले के कोटडा उपखंड कार्यालय पर चक साडमारीया और बुजा गांव में प्रस्तावित बांधों के निर्माण के विरोध अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे आदिवासी समाज के लोगों का प्रदर्शन आज चौथे दिन भी जारी रहा। क्षेत्र के ग्रामीण बारी बारी से उपखंड कार्यालय के बाहर धरना दे रहे है। दरअसल, सिरोही, पाली और जोधपुर जिले में पेयजल आपूर्ति को लेकर उदयपुर जिले के कोटड़ा ओपन क्षेत्र में साबरमती और सई नदी पर बांधों का निर्माण किया जा रहा है, जिसकी वित्तीय स्वकृति भी जारी कर दी है।

बांधों के निर्माण के विरोध में प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों का कहना है कि इन बांधों के बनने से करीब 35,000 से भी ज्यादा परिवार प्रभावित होंगे जिन्हें विस्थापित होना पड़ेगा। ऐसे में यहां पर बांधों के निर्माण का काम रोका जाए। उपखंड कार्यालय के बाहर धरने पर बैठे आदिवासी समाज के लोगों ने गुरुवार को कस्बे में ढोल बजाते हुए रैली निकाली और कार्यालय के बाहर पुतला फूंका।

वहीं 4 दिन के प्रदर्शन के बाद भी प्रशासनिक अधिकारियों का कोई भी दल आदिवासी समुदाय के लोगों से वार्ता करने के लिए नहीं पहुंचा है। ऐसे में आदिवासी समाज के लोगों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। संभावना जताई जा रही है कि अगले 2 से 3 दिन में अगर आदिवासी समुदाय के लोगों को कोई ठोस आश्वासन नहीं दिया गया तो वे उग्र आंदोलन कर सकते हैं। ऐसे में उदयपुर में आयोजित होने वाले जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान संभवतः कोटडा में आदिवासियों का उग्र प्रदर्शन हो सकता है।

Share this Story...

You May Also Like

Exclusive

रांची। मुख्यमंत्री चम्पाई सोरेन के नेतृत्व में झारखंड में पेसा (PESA) नियमावली लागू करने की कवायद तेज हो चुकी है। इसी संदर्भ में आज...

Exclusive

रांची। आचार संहिता हटने के तुरंत बाद झारखंड के मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने विधि व्यवस्था को लेकर प्रशासनिक अधिकारियों, सभी जिलों के उपायुक्त तथा...

National

नई दिल्ली। चार विधानसभा चुनावों के नतीजों में भाजपा ने मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में जीत हासिल की है, वहीं कांग्रेस तेलंगाना में सरकार...

Culture

राजस्थान के मानगढ़ में 17 नवंबर 1913 को जलियांवाला बाग से भी भीषण हत्याकांड हुआ था, जिसमें कर्नल शटन ने लाखों निहत्थे भील आदिवासियों...

error: Content is protected !!