Connect with us

Hi, what are you looking for?

Adiwasi.com

Exclusive

मंत्री चंपई सोरेन की पहल से बदली जिंदगी

जमशेदपुर। झारखंड में ट्विटर आम लोगों की जिंदगी को कैसे बदल रहा है, यह इस खबर से समझा जा सकता है। सरायकेला- खरसावां जिले के आदित्यपुर की एक विधवा महिला ने सरकार से पेंशन की गुहार लगाई, उसके बाद मंत्री चंपई सोरेन की पहल ने, उस महिला की जिंदगी बदल कर रख दी।

मामला आदित्यपुर के बंतानगर का है, जहाँ रहने वाली सुधा देवी के पति की मृत्यु कोरोना काल में, नदी में डूबने से हो गई। शोक में डूबी उस महिला की मदद के लिए उसके पति के कुछ मित्र सामने आये। उन्होंने तत्काल कुछ नकद सहायता की। उन्हीं मित्रों में से एक, संदीप प्रधान ने महिला को विधवा पेंशन दिलवाने के लिए मंत्री चंपई सोरेन को ट्वीट किया, ताकि वे अपने तीनों बच्चों का जीवन-यापन कर सकें। मंत्री ने जिले के उपायुक्त अरवा राजकमल को महिला की सहायता का निर्देश दिया।

तत्पश्चात सरकारी कर्मचारियों ने उनके घर जाकर कागजी प्रक्रिया पूरी की, लेकिन कुछ तकनीकी कारणवश मामला अटक गया। कुछ महीनों बाद, इसी मामले पर फिर एक बार ट्वीट आने पर मंत्री चंपई सोरेन का कार्यालय सक्रिय हुआ। अधिकारियों से हो रही देरी का कारण पूछा गया और तत्काल पेंशन शुरू करवा कर परिवार को अधिकतम सहायता पहुंचाने की कवायद शुरू हुई।

सबसे पहले उनके पति (कन्हैया राय) के मृत्यु के कारणों की पड़ताल शुरू हुई ताकि अगर उनकी मौत कोरोना से हुई हो, तो उन्हें राज्य सरकार द्वारा घोषित पचास हजार की राशि दी जा सके। लेकिन जब उनकी मौत नदी में डूबने से होने की बात सामने आई तो जिला प्रशासन सक्रिय हो गया। सभी जरूरी कागजात जमा करने के बाद, महिला के एकाउंट में आपदा प्रबंधन विभाग ने डीबीटी से चार लाख रुपये भेज दिए।

इतनी बड़ी रकम मिलने से महिला हतप्रभ थी, और ट्विटर पर मदद की पहल करने वाले संदीप की आंखों में आंसू थे – “हम लोग तो सरकार से विधवा पेंशन की गुहार लगाने गये थे, लेकिन गरीबों के मसीहा चंपई सोरेन जी ने ना सिर्फ उनका पेंशन शुरू करवाया, बल्कि चार लाख रुपये भी दिलवाए। एक महिला के लिए पति को खोने से दुखद कुछ नहीं होता, लेकिन मंत्री जी ने इस परिवार के आंसू पोछने की जो पहल की, उसे हम लोग जीवन भर नहीं भुला सकते।”

इन पैसों के कुछ हिस्से का इस्तेमाल महिला अपने घर को पक्का बनवाने के लिए कर रही है।

इस संबंध में संपर्क करने पर मंत्री चंपई सोरेन ने कहा – “गरीबों, मजदूरों और किसानों का कल्याण हमारी सरकार की प्राथमिकता है। मुझे खुशी है कि हमारी सरकार एक जरूरतमंद बेटी और उसके परिवार की मदद कर पाई।”

ज्ञात हो कि झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन व मंत्री चंपई समेत कई विधायक व मंत्री, हर दिन ट्विटर पर कई लोगों की शिकायतें सुनते हैं तथा उनका समाधान करते हैं।

Share this Story...
Advertisement

Trending

You May Also Like

Jharkhand

यह कहानी रांची के मुड़मा (मांडर) से शुरू होती है, जहां के एक आदिवासी बच्चे (संजय कुजूर) ने सपने तो बहुत बड़े बड़े देखे...

Jharkhand

रांची। झारखंड में #INDIA गठबंधन की सरकार ने विश्वास मत जीत लिया है। विधानसभा में हुए शक्ति परीक्षण में सत्ता पक्ष को 47 वोट...

Exclusive

लंदन। यह कहानी पूर्वी सिंहभूम जिले (झारखंड) के अजय हेम्ब्रम की है, जिन्होंने उच्च शिक्षा का ख्वाब देखा था। भारत में शिक्षा तक तो...

Jharkhand

धनबाद। निरसा एमपीएल के गेट पर मजदूर विजय किस्कू के शव को लेकर पिछले 5 दिनों से चल रहा धरना मंत्री चंपई सोरेन के...

error: Content is protected !!