Connect with us

Hi, what are you looking for?

Adiwasi.com

National

मध्य प्रदेश की सियासत में तेजी से बढ़ रही है आदिवासियों की अहमियत

भोपाल। मध्य प्रदेश की सियासत में अब आदिवासी की अहमियत तेजी से बढ़ रही है। सत्ताधारी दल भाजपा और विपक्षी दल कांग्रेस ने इस वर्ग का दिल जीतकर आगामी समय में होने वाले पंचायत, नगरीय निकाय से लेकर वर्ष 2023 के विधानसभा चुनाव की जीत के लिए सियासी बिसात पर चालें चलना तेज कर दी है । यही कारण है कि आदिवासी केंद्रित राजनीति का दौर तेज होने के आसार बनने लगे है।

राज्य की राजनीति की सत्ता की राह को फतह करने में जनजातीय वर्ग की अहम् भूमिका रही है, इस वर्ग ने जिस दल का साथ दिया, उसके लिए सरकार बनाना आसान रहा है। दोनों ही राजनीतिक दल इस बात से वाकिफ है और उन्होंने इसके लिए जमीनी तैयारी तेज कर दी है। राज्य में 21 प्रतिषत से ज्यादा आबादी आदिवासी वर्ग की है, इसी के चलते 84 विधानसभा क्षेत्र ऐसे है जहां आदिवासी बाहुतायत में है। कुल मिलाकर इन क्षेत्रों में जीत व हार आदिवासियों के वोट पर निर्भर है। वर्ष 2018 के विधानसभा चुनाव में भाजपा इन 84 में से 34 सीट पर जीत हासिल कर सकी थी, जबकि वर्ष 2013 में भाजपा ने 59 क्षेत्रों में जीत दर्ज की थी। इस तरह पार्टी को वर्ष 2013 की तुलना में 2018 में 25 सीटों पर नुकसान हुआ था।

राज्य में 47 विधानसभा क्षेत्र आदिवासी वर्ग के लिए आरक्षित है। इन क्षेत्रों में वर्ष 2013 के चुनाव मे भाजपा ने 31 सीटें जीती थीं, जबकि कांग्रेस के खाते में 15 सीटें आईं थीं।वहीं वर्ष 2018 के चुनाव में भाजपा सिर्फ 16 सीटें ही जीत सकी और कांग्रेस का आंकड़ा 30 सीटों पर पहुॅच गया। परिणामस्वरुप भाजपा केा सत्ता से बाहर होना पड़ा था।

आदिवासी वेाट बैंक पर दोनों दल अपनी पकड़ केा मजबूत बनाए रखना चाहते है, यही कारण है कि इन दिनों आदिवासी हितैषी होने का दंभ भरा जा रहा है। भाजपा ने 15 नवंबर केा बिरसामुंडा की जयंती पर जनजातीय गौरव दिवस मनाया और इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल हुए। अब 22 नवंबर को मंडला में एक भव्य कार्यक्रम होने वाला है। यह जनजातीय गौरव सप्ताह के समापन का कार्यक्रम है। इसी तरह टंटया भील के बलिदान दिवस पर इंदौर के पातालपानी में चार दिसंबर को एक समारोह होने जा रहा है।

एक तरफ जहां भाजपा आदिवासियों मे ंपैठ बढ़ाने की जुगत में लगी है तो दूसरी और कांग्रेस भी इस वर्ग में अपने जनाधार को बरकरार रखना चाह रही है। यही कारण है कि 24 नवंबर को जनजातीय वर्ग के विधायकों और नेताओं की भोपाल में बैठक बुलाई जा रही है। दोनों राजनीतिक दलों की बढती सक्रियता यह संदेश देने लगी है कि उनके लिए आदिवासी वोट बैंक सत्ता की राह को आसान बना सकता है, लिहाजा उन्होंने जमीनी तौर पर इस वर्ग तक पहुॅचने की मुहिम केा तेज कर दिया है।

Share this Story...

You May Also Like

Jharkhand

रांची। कोल्हान में कांग्रेस सांसद तथा पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा की पत्नी गीता कोड़ा के भाजपा में शामिल होने के बाद अटकलों का दौर...

Jharkhand

रांची। झारखंड में #INDIA गठबंधन की सरकार ने विश्वास मत जीत लिया है। विधानसभा में हुए शक्ति परीक्षण में सत्ता पक्ष को 47 वोट...

Exclusive

पिछले दशक की शुरुआत में केंद्र में मनमोहन सिंह की सरकार सत्ता में थी। इस सरकार पर कोयला घोटाला, राष्ट्रमंडल खेल घोटाला, 2G घोटाला...

National

नई दिल्ली। चार विधानसभा चुनावों के नतीजों में भाजपा ने मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में जीत हासिल की है, वहीं कांग्रेस तेलंगाना में सरकार...

error: Content is protected !!